महावीर स्वामी कौन थे? Who Was Mahaveer Swami

Mahaveer Swami: आज मैं आपको महावीर स्वामी जी के बारे में बताऊंगा और उनके पूरे जीवन से पर्दा उठाऊंगा की आखिर कौन थे महावीर स्वामी और इनको जैन धर्म में एक बहुत बड़ी उपाधि क्यों मिली है। आखिर जैन धर्म में इनका क्या योगदान है। आईये जानते हैं इनके बारे में।

Who Was Mahaveer Swami

महावीर स्वामी कौन थे?

महावीर जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर हैं। महावीर का जन्म 540 ई. पू. पहले वैशाली गणतंत्र के क्षत्रिय कुण्डलपुर में हुआ था। इनके पिता का नाम सिद्धार्थ और माता का नाम त्रिशला था। स्वामी जी के बचपन का नाम वर्धमान था। 
जन्म 599 ईO पूO
जन्म स्थान कुण्डग्राम ( वासुकुण्ड )
माता त्रिशला
पिता सिद्धार्थ / श्रेयंस / यासांस
बचपन का नाम वर्धमान
गोत्र कश्यप
जाति ज्ञातृक
वंश इक्ष्वाकु
प्रतीक सिंह
पत्नी यशोदा
भाई नंदिवर्धन
बहन सुदर्शना
पुत्री प्रियदर्शना / अणनौज्जा
गृहत्याग 30 वर्ष की अवस्था में
ज्ञान की प्राप्ति 42 वर्ष की अवस्था में, ऋजुपलिका नदी तट पर शाल वृक्ष के नीचे
प्रथम उपदेश राजगृह में बराकर नदी तट पर बिपुलाचल पहाड़ी पर
प्रथम वर्षावास अस्तिकाग्राम में
प्रथम शिष्य जमालि
प्रथम शिष्या चांदना
प्रथम गणधर गौतम स्वामी
अंतिम वर्षावास पावापुरी
संघ का प्रथम विच्छेदक जमालि
संघ का द्वितीय विच्छेदक तीसगुप्त
मृत्यु 527 ईo पूo पावापुरी में

महावीर के बारे में रोचक जानकारी

महावीर जैन धर्म के 24वें तीर्थकार हैं। इसलिए इनको जैन धर्म में पूजा जाता है। इन्होने अपनी 30 साल की उम्र में अपना घर छोड़ दिया था। और अभी तक इनको ज्ञान प्राप्त नहीं हुआ था इन्हे ज्ञान जब मिला जब ये ऋजुपलिका नदी तट पर शाल वृक्ष के नीचे बैठे थे और तब इनकी उम्र 42 वर्ष की थी। 
इनकी जाती ज्ञातृक थी और इनके बचपन का नाम वर्धमान था और इनके अन्य नाम वीर, अतिवीर, वर्धमान, सन्मति है। महावीर की पत्‍नी का नाम यशोदा और पुत्री का नाम अनोज्जा प्रियदर्शनी था। अगर हम इनकी फ्यसिकल स्थिति की बात करें तो इनकी उचाई 6 फ़ीट यानी 7 हाथ की थी।

आखरी विचार 

मुझे आशा है की आपको महावीर स्वामी जी के बारे में जानकारी पसंद आयी होगी। अगर मुझे इनके बारे में और अधिक जानकारी मिलती है तो यहाँ जोड़ दी जाएगी। जब तक के लिए हमारे और भी आर्टिकल पढ़ सकते हैं, जिसमे हमने देश और दुनिया के सभी महान पुरसों के बारे में अधिक से अधिक जानकारी दी है। 

कल्यामपुड़ी राधाकृष्ण राव कौन हैं? Calyampudi Radhakrishna Rao Biography

आज हम आपको एक ऐसे सख्सियत के बारे में बताने जा रहे हैं जो दुनिया के महान गणितज्ञों में से एक है। जी हाँ आज हम बात करने बाले है मशहूर भारतीय और अमेरिकी गणितज्ञ कल्यामपुड़ी राधाकृष्ण राव के बारे में। इस लेख में हम आपको Calyampudi Radhakrishna Rao Biography के बारे में बात करूंगा।

कल्यामपुड़ी राधाकृष्ण राव की जीवनी 

Calyampudi Radhakrishna Rao biography
C. R. Rao का जन्म 10 सितम्बर 1920 को भारत के राज्य कर्नाटक में हुआ था। ये एक तेलुगु परिवार में पैदा हुए थे। ये अपने माता-पिता के 10 बच्चों में से 8में स्थान पर हुए थे। राधाकृष्ण राव जी ने आंध्र विश्वविद्यालय से गणित में एमएससी की और 1943 में कलकत्ता विश्वविद्यालय से सांख्यिकी में एमए भी किया। उन्होंने 1948 में आर. ए. फिशर के तहत कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में किंग्स कॉलेज में पीएचडी की डिग्री प्राप्त की, जिसमें उन्होंने एक स्कॉड को जोड़ा। 1965 में कैम्ब्रिज से भी डिग्री प्राप्त की।
उन्होंने पहले भारतीय सांख्यिकी संस्थान और कैंब्रिज में मानव विज्ञान संग्रहालय में काम किया। इसके बाद में राव भारतीय सांख्यिकी संस्थान, जवाहरलाल नेहरू प्रोफेसर और भारत में राष्ट्रीय प्रोफेसर, पिट्सबर्ग विश्वविद्यालय में विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और सांख्यिकी के अध्यक्ष और सांख्यिकी के अध्यक्ष और पेंसिल्वेनिया राज्य विश्वविद्यालय में बहुपक्षीय विश्लेषण केंद्र के निदेशक के रूप में कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे।

कल्यामपुड़ी राधाकृष्ण राव कौन हैं?

राव जी एक प्रसिद्ध भारतीय-अमेरिकी गणितज्ञ हैं और आज इनकी उम्र करीब 99 वर्ष है और ये अभी भी अपना कार्य कर रहे हैं। ये एक ऐसी हस्ती है जिनके पास अमेरिकी, ब्रिटिश, भारतीय, तीनों देशो की राष्ट्रता है। इनको भारत सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। 
इनका जन्म 10 सितम्बर 1920 में भारत के राज्य कर्नाटक में हुआ था और इनके माता-पिता का नाम A. Laxmikanthamma, C. Doraswamy Naidu है। यह अभी वर्तमान में पेंसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर एमेरिटस हैं और बफ़ेलो विश्वविद्यालय में रिसर्च प्रोफेसर हैं।

आखिरी बिचार

मैं आशा करता हूँ की आपको मेरी ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी। मुझे जितनी जानकारी मिली मैंने यहाँ बता दी अगर और जानकारी मिली तो इधर जोड़ दी जाएगी।